दमोह में 24 दिनों में दोगुना हुआ संक्रमण, न लॉकडाउन, न हो रहा गाइडलाइन का पालन:

post

दमोह में कोरोना संक्रमण पर
विधानसभा उपचुनाव भारी पड़ रहा है। यहां उपचुनाव का नोटिफिकेशन जारी होने के
24 दिन बाद कोरोना संक्रमण दोगुना हो गया है। रोजाना 25 से 30 संक्रमित
मरीज मिल रहे हैं। बावजूद इसके संक्रमण की रोकथाम के लिए कदम नहीं उठाए जा
रहे हैं। विधानसभा उपचुनाव के चलते दमोह में रोजाना जनसभाओं का आयोजन किया
जा रहा है। सभाओं में हजारों लोगों की भीड़ जमा की जा रही है। इस भीड़ में
संक्रमित जिलों के लोग भी शामिल हो रहे हैं। ऐसे में दमोह में कोरोना
संक्रमण का खतरा बढ़ गया है।


हालत
यह हैं कि गुरुवार को 30 नए संक्रमित सामने आए। इसके साथ ही दमोह में अब
तक 3507 कोरोना मरीज मिल चुके हैं। इस समय 105 मरीज अस्पताल में भर्ती हैं।
इनमें से 13 मरीजों का उपचार ICU में चल रहा है। बावजूद इसके प्रशासन दमोह
में संक्रमण की रोकथाम के लिए न तो कोरोना गाइडलाइन का सख्ती से पालन करा
पा रहा है और न ही लॉकडाउन जैसे निर्णय लिए गए हैं। जबकि पूरे प्रदेश में
शुक्रवार शाम 6 बजे से सोमवार सुबह 6 बजे तक के लॉकडाउन की घोषणा की गई है।
दमोह जिले में लॉकडाउन का निर्णय जिला निर्वाचन अधिकारी को लेना है।


मतदान के बाद बिगड़ सकती है दमोह की स्थिति

दमोह
में कोरोना का संक्रमण लगातार बढ़ता जा रहा है। इसके बाद भी उपचुनाव के
चलते आमसभाएं और भीड़ जमा करने का सिलसिला जारी है। भीड़ के बीच कोरोना
गाइडलाइन का भी पालन नहीं हो रहा है। हालात यही रहे तो 17 अप्रैल को मतदान
के बाद दमोह की स्थिति बिगड़ सकती है। संक्रमण फैलने का खतरा बना हुआ है।
यहां बता दें हाल ही में दमोह में आयोजित आमसभा में शामिल होने के दो दिन
बाद प्रदेश के राजस्व व परिवहन मंत्री गोविंद सिंह राजपूत कोरोना संक्रमित
हो चुके हैं। इसके अलावा पूर्व मंत्री जयंत मलैया ने हाल ही में खुद को होम
क्वारंटाइन किया था। स्थितियों के अनुसार दमोह के लोगों को कोरोना से
बचाने के लिए स्वयं जागरूक होकर सोशल डिस्टेंसिंग का पालन और मास्क लगाने
की जरूरत है।


नोटिफिकेशन जारी होने के बाद के पांच दिनों की स्थिति
-16 मार्च को 7 संक्रमित
-17 मार्च को 5 संक्रमित
-18 मार्च को 12 संक्रमित

-19 मार्च को 10 संक्रमित
-20 मार्च को 11 संक्रमित मिले थे।

दमोह में 20 मार्च को कोरोना की स्थिति
- 3009 कोरोना मरीज मिल चुके थे
- 93 लोगों की कोरोना से मौत हुई
- 2827 से अधिक मरीज स्वस्थ हुए।
- 182 केस एक्टिव थे।

सभाओं के बाद पिछले पांच दिनों में कोरोना की स्थिति
- 4 अप्रैल को 23 संक्रमित मरीज मिले
- 5 अप्रैल को 29 संक्रमित मरीज
- 6 अप्रैल को 28 संक्रमित मरीज
- 7 अप्रैल को 30 संक्रमित मरीज
- 8 अप्रैल को 30 संक्रमित मरीज मिले

दमोह में 8 अप्रैल तक कोरोना के हालात

अब तक मिले कोरोना मरीज- - 3507
स्वस्थ्य हुए- 2963
एक्टिव केस - 199
मौत- 110


दमोह में कोरोना संक्रमण पर
विधानसभा उपचुनाव भारी पड़ रहा है। यहां उपचुनाव का नोटिफिकेशन जारी होने के
24 दिन बाद कोरोना संक्रमण दोगुना हो गया है। रोजाना 25 से 30 संक्रमित
मरीज मिल रहे हैं। बावजूद इसके संक्रमण की रोकथाम के लिए कदम नहीं उठाए जा
रहे हैं। विधानसभा उपचुनाव के चलते दमोह में रोजाना जनसभाओं का आयोजन किया
जा रहा है। सभाओं में हजारों लोगों की भीड़ जमा की जा रही है। इस भीड़ में
संक्रमित जिलों के लोग भी शामिल हो रहे हैं। ऐसे में दमोह में कोरोना
संक्रमण का खतरा बढ़ गया है।


हालत
यह हैं कि गुरुवार को 30 नए संक्रमित सामने आए। इसके साथ ही दमोह में अब
तक 3507 कोरोना मरीज मिल चुके हैं। इस समय 105 मरीज अस्पताल में भर्ती हैं।
इनमें से 13 मरीजों का उपचार ICU में चल रहा है। बावजूद इसके प्रशासन दमोह
में संक्रमण की रोकथाम के लिए न तो कोरोना गाइडलाइन का सख्ती से पालन करा
पा रहा है और न ही लॉकडाउन जैसे निर्णय लिए गए हैं। जबकि पूरे प्रदेश में
शुक्रवार शाम 6 बजे से सोमवार सुबह 6 बजे तक के लॉकडाउन की घोषणा की गई है।
दमोह जिले में लॉकडाउन का निर्णय जिला निर्वाचन अधिकारी को लेना है।


मतदान के बाद बिगड़ सकती है दमोह की स्थिति

दमोह
में कोरोना का संक्रमण लगातार बढ़ता जा रहा है। इसके बाद भी उपचुनाव के
चलते आमसभाएं और भीड़ जमा करने का सिलसिला जारी है। भीड़ के बीच कोरोना
गाइडलाइन का भी पालन नहीं हो रहा है। हालात यही रहे तो 17 अप्रैल को मतदान
के बाद दमोह की स्थिति बिगड़ सकती है। संक्रमण फैलने का खतरा बना हुआ है।
यहां बता दें हाल ही में दमोह में आयोजित आमसभा में शामिल होने के दो दिन
बाद प्रदेश के राजस्व व परिवहन मंत्री गोविंद सिंह राजपूत कोरोना संक्रमित
हो चुके हैं। इसके अलावा पूर्व मंत्री जयंत मलैया ने हाल ही में खुद को होम
क्वारंटाइन किया था। स्थितियों के अनुसार दमोह के लोगों को कोरोना से
बचाने के लिए स्वयं जागरूक होकर सोशल डिस्टेंसिंग का पालन और मास्क लगाने
की जरूरत है।