ठंडा पानी शरीर को हाइड्रेट रखने में कम कारगर, गुनगुना पानी बॉडी आसानी से एब्जॉर्ब करती है; 5 बड़े फायदे:

post

डिहाइड्रेशन यानी शरीर में
पानी की कमी। जर्नल फ्रंटियर इन साइकोलॉजी में पब्लिश रिसर्च कहती है, अगर
शरीर 15 मिनट तक भी डिहाइड्रेट रहता है तो यह हमारे मूड और ध्यान पर बुरा
असर डाल सकता है।

नेशनल
एकेडमी ऑफ मेडिसिन के मुताबिक, एक युवा महिला को 2.69 लीटर और पुरुष को
3.69 लीटर पानी रोजाना पीना चाहिए। ठंडे पानी की तुलना में गुनगुना पानी
शरीर को ज्यादा हाइड्रेट रखता है। इसका कारण यह है कि शरीर इसे तेजी से
एब्जॉर्ब करता है।


समझिए शरीर में पानी की कमी के दो संकेत
शरीर
में पानी की कमी जानने का सबसे पुराना तरीका यूरीन के रंग में बदलाव है,
लेकिन इसके अलावा भी दो संकेत हैं जो डिहाइड्रेशन की जानकारी देते हैं।

  • बार-बार मीठा खाने का मन करना: पानी
    की कमी होने पर लिवर ग्लाइकोजन (स्टोर की हुई शुगर) रिलीज नहीं कर पाता
    है। ऐसे में व्यक्ति को मीठा खाने की इच्छा होती है क्योंकि शरीर ऊर्जा के
    लिए ग्लूकोज रिलीज नहीं कर पाता।
  • स्किन टेस्ट: इस
    टेस्ट को करने के लिए दो उंगलियों से हाथ के पीछे की त्वचा को खींच कर छोड़
    दें। अगर त्वचा को सामान्य होने में कुछ सेकंड से ज्यादा समय लगे तो यह
    पानी की कमी हो सकती है।


पानी की कमी होने का शरीर पर असर

  • यूरीनरी और किडनी की समस्या: लगातार पानी की कमी से यूरीनरी ट्रैक्ट में संक्रमण, किडनी में स्टोन और किडनी फेल होने का खतरा रहता है।
  • हाइपोवॉल्मिक शॉक: डिहाइड्रेशन के कारण ब्लड प्रेशर में कमी और रक्त में ऑक्सीजन की मात्रा कम हो जाती है, इसमें इंसान की जान तक जा सकती है।

पानी पीने के 5 बड़े फायदे

शरीर का तापमान कंट्रोल में रहता है
गर्मी
में पसीना अधिक निकलने से शरीर में पानी की कमी होती है और शरीर का तापमान
बढ़ने का खतरा रहता है। दिनभर में 10 गिलास पानी पीते हैं तो डिहाइड्रेशन
और बॉडी ट्रेम्प्रेचर कंट्रोल में रहता है।


कब्ज और पेट के रोगों का खतरा कम
एक्सपर्ट
कहते हैं, कब्ज और पेट के रोगों से राहत चाहिए तो फायबर युक्त चीजों के
अलावा पानी पीना भी जरूरी है। खाने से 45 मिनट पहले और 45 मिनट बाद पानी
पीने से पाचन बेहतर रहता है।

वजन घटाने में मदद करता है
रोजाना
पर्याप्त मात्रा में पानी पीते हैं तो यह वजह बढ़ने से भी रोकता है। यह
शरीर के जहरीले तत्वों को बाहर निकालकर इम्युनिटी बढ़ाने में मदद करता है।

एनर्जी और स्किन की चमक को बढ़ाता है
पानी
शरीर में को एनर्जी देने का काम भी करता है। एक रिसर्च के मुताबिक, पानी
शरीर में कोलेजन को बढ़ाने में मदद करता है। इससे स्किन की चमक बढ़ती है।

थकान मिटाकर मूड बेहतर बनाता है
एक
अन्य रिसर्च के मुताबिक, पानी हमारे मूड को भी बेहतर और सकारात्मक बनाने
काम करता है। यह डिहाइड्रेशन से बचाता है और थकान दूर करने में मदद करता
है।


डिहाइड्रेशन यानी शरीर में
पानी की कमी। जर्नल फ्रंटियर इन साइकोलॉजी में पब्लिश रिसर्च कहती है, अगर
शरीर 15 मिनट तक भी डिहाइड्रेट रहता है तो यह हमारे मूड और ध्यान पर बुरा
असर डाल सकता है।

नेशनल
एकेडमी ऑफ मेडिसिन के मुताबिक, एक युवा महिला को 2.69 लीटर और पुरुष को
3.69 लीटर पानी रोजाना पीना चाहिए। ठंडे पानी की तुलना में गुनगुना पानी
शरीर को ज्यादा हाइड्रेट रखता है। इसका कारण यह है कि शरीर इसे तेजी से
एब्जॉर्ब करता है।


समझिए शरीर में पानी की कमी के दो संकेत
शरीर
में पानी की कमी जानने का सबसे पुराना तरीका यूरीन के रंग में बदलाव है,
लेकिन इसके अलावा भी दो संकेत हैं जो डिहाइड्रेशन की जानकारी देते हैं।

  • बार-बार मीठा खाने का मन करना: पानी
    की कमी होने पर लिवर ग्लाइकोजन (स्टोर की हुई शुगर) रिलीज नहीं कर पाता
    है। ऐसे में व्यक्ति को मीठा खाने की इच्छा होती है क्योंकि शरीर ऊर्जा के
    लिए ग्लूकोज रिलीज नहीं कर पाता।
  • स्किन टेस्ट: इस
    टेस्ट को करने के लिए दो उंगलियों से हाथ के पीछे की त्वचा को खींच कर छोड़
    दें। अगर त्वचा को सामान्य होने में कुछ सेकंड से ज्यादा समय लगे तो यह
    पानी की कमी हो सकती है।